S&P ग्लोबल रेटिंग्स के मुताबिक,दूसरी COVID-19 लहर में भारत की GDP घटकर हो सकती है 9.8 प्रतिशत

देश

05 मई, 2021 को S&P ग्लोबल रेटिंग्स ने वित्त वर्ष 2022 के लिए भारत की GDP वृद्धि दर के अनुमान को 9.8 प्रतिशत तक संशोधित किया है।जिसमें यह कहा गया है कि कोविड ​​-19 महामारी की दूसरी लहर भारत के नवोदित पुनरुत्थान/ बहाली और ऋण की स्थिति को पटरी से उतार सकती है।भारत में कोविड -19 महामारी की इस दूसरी लहर ने S&P को इस वित्तीय वर्ष में 11 प्रतिशत GDP वृद्धि के अपने पिछले पूर्वानुमान पर पुनर्विचार करने के लिए प्रेरित किया है।

S&P ग्लोबल रेटिंग्स एशिया-पैसिफिक के मुख्य अर्थशास्त्री शॉन रोचे ने यह कहा है कि,” कोविड मामलों के चरम का समय, और बाद में गिरावट की दर,हमारे विचारों को प्रेरित करते हैं।”भारत में COVID -19 वेरिएंट संक्रमण के मामलों की बढ़ती संख्या और सीमित टीकाकरण प्रक्रिया जून के अंत में संक्रमण दर में आने वाले चरम की ओर इशारा करता है।इस चरम का फंडिंग और क्रेडिट की स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव हो सकता है,इस अध्ययन में यह उल्लेख किया गया है।इस COVID-19 महामारी की दूसरी लहर के कारण संभवतः वित्त वर्ष,2022 में भारत की GDP वृद्धि दर से 2.8 प्रतिशत अंक तक नीचे आ सकती है।मार्च में,अमेरिका की वैश्विक रेटिंग एजेंसी S&P ने अप्रैल, 2021 से मार्च, 2022 तक भारत के लिए 11 प्रतिशत GDP विकास दर की भविष्यवाणी की थी,जोकि तीव्र आर्थिक सुधारों और राजकोषीय प्रोत्साहन के कारण थी।

S&P ने आगे यह उल्लेख किया है कि,भारतीय अर्थव्यवस्था की मंदी दर आगे इस बात की जानकारी देगी कि,इससे संप्रभु क्रेडिट प्रोफ़ाइल कितना प्रभावित होगा. S&P ने वर्तमान में भारत की रेटिंग की स्थिर दृष्टिकोण के साथ ‘BBB-‘ के साथ पुष्टि की है,जिससे यह पता चलता है कि भारत के पास अपनी वित्तीय प्रतिबद्धताओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त क्षमता है।

• S&P ग्लोबल रेटिंग्स (पूर्व में स्टैंडर्ड एंड पूअर्स) एक यूएस-आधारित क्रेडिट रेटिंग एजेंसी (CRA) है जो आर्थिक शोध प्रकाशित करती है और वस्तुओं,स्टॉक और बॉन्ड के बारे में विश्लेषण करती है।


• S&P छोटी अवधि के साथ-साथ दीर्घकालिक क्रेडिट रेटिंग भी जारी करता है।एक क्रेडिट रेटिंग एजेंसी के तौर पर, यह सरकारों और संबंधित संस्थाओं जैसे सार्वजनिक उधारकर्ताओं के ऋण के साथ-साथ, सार्वजनिक और निजी कंपनियों के लिए भी क्रेडिट रेटिंग जारी करती है।


• अमेरिकी प्रतिभूति और विनिमय आयोग विभिन्न क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों के समूह के बीच में से S&P को एक राष्ट्रीय सांख्यिकीय रेटिंग संगठन के तौर पर मान्यता देता है।


• S&P को दुनिया की तीन प्रमुख क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों,अन्य दो -फिच रेटिंग्स और मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस- में गिना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *