राजस्व की सिर्फ पूर्ति हेतु आरआरबी परीक्षा सेंटर को 600 मील तक दूर दिया गया है–सूरज सिंह

धनबाद


आज दिनांक 24 फरवरी 2021 को आरआरबी की एग्जाम कि सेंटर को लेकर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए छात्र नेता व यूथ फोर्स के केंद्रीय सचिव सूरज सिंह ने कहा कि आरआरबी परीक्षा देने वाले अधिकतर छात्र-छात्राएं,मजदूर-किसान परिवार से आते हैं।इस करोना काल ने सभी वर्गों की आर्थिक कमर तोड़ कर रख दी है।विशेष रूप से वैसे मजदूर -किसान जो प्रतिदिन कार्य कर अपना जीवन यापन करते हैं , वैसे लोग सबसे ज्यादा प्रभावित है।कोरोना काल को देखते हुए विभिन्न परीक्षाओं को होम सेंटर कर दिया गया है,ताकि छात्र – छात्राओं को किसी प्रकार की असुविधा ना हो और वह अपनी परीक्षा को सुनिश्चित कर सकें।लेकिन छात्र विरोधी केंद्र सरकार ने आरआरबी रेल मंत्रालय द्वारा जान बूझकर छात्र-छात्राओं को परेशान करने एवं अपने राजस्व की सिर्फ पूर्ति हेतु आरआरबी परीक्षा सेंटर को 600 मील तक दूर दिया गया है। रांची से फॉर्म भरे छात्रों को भुवनेश्वर कोटा यादी जगहों पर दिया गया।इसी प्रकार अन्य जगहों पर फार्म भरे छात्रों को भी 600 मील दूर तक सेंटर दिया गया है,जो किसी भी दृष्टिकोण से उचित नहीं है।

इस कोरोना काल में छात्र नौजवान को इतनी दूरी सफर करने में किस कदर परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है कि आप भली-भांति समझ सकते हैं,लेकिन रेल मंत्रालय सिर्फ और सिर्फ अपने राजस्व की पूर्ति के लिए छात्रों को जान बूझकर उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है।जो किसी भी प्रकार से उचित नहीं है।मैं रेल मंत्रालय से आग्रह करता हूं कि इस विषय को गंभीरता से देखते हुए छात्र-नौजवान साथियों का परीक्षा सेंटर नज़दीक दिया जाए।ताकि शत प्रतिशत छात्र परीक्षा में सम्मिलित होकर अपने भविष्य सुनिश्चित कर सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *