मंगलमय कामना के साथ स्वामी जी ने दिया कथा को विराम,विगत एक सप्ताह से चल रहा था श्रीमद् भागवत का आयोजन

अरवल (शहर तेलपा)


बीते एक सप्ताह से कुबरी ग्राम में चल रहे श्रीमद् भागवत कथा का कल पूर्णाहुति के साथ ही समापन हो गया।कथा के अंतिम दिन परम पूज्य श्री श्री 1008 स्वामी राम प्रपन्नाचार्य जी महाराज ने सर्वप्रथम बैकुंठ वासी श्री श्री 1008 परांकुशाचार्य जी महाराज के तैल चित्र पर पुष्प अर्पित कर एवं आरती मंगल कर उनकी जयंती मनाई।तदुपरांत स्वामी जी महाराज के मुखारविंद से श्रीमद् भागवत कथा के अंतिम दिन कथा वाचन हुआ।वैष्णव सम्प्रदाय के उच्च कोटि के संत श्री श्री 1008 श्री रामप्रपन्नाचार्य जी महाराज के श्रीमुख से हो रहे सांध्यकालीन भागवत कथा में जिले के दूर दूर के गांवों से हजारों भक्त कथा का रसपान करने पहुँच रहे थे।

इस तरह के आयोजनों ने आपसी भाईचारा एवं लोगों के बीच सेवा की भावना बढ़ती है

20 मार्च से 26 मार्च तक चला इस धार्मिक महोत्सव में आस्था एवं भक्ति की महक आसपास के इलाके को भक्तिमय बना रही थी।गुरुवार की रात्रि कथा श्रवण करने पहुँचे क्षेत्र के जाने माने समाजसेवी सुधीर शर्मा ने व्यासपीठ पर विराजमान स्वामीजी का माल्यार्पण किया।वहीं मंच से उपस्थित लोगों को ऐसे धार्मिक आयोजन के लिए बधाई एवं धन्यवाद दिया।पत्रकारों को संबोधित करते हुए समाजसेवी ने कहा कि स्वामीजी के द्वारा प्रवचन में बताए रास्ते पर चलने से जीवन मे कभी भी कष्टों का सामना नही करना पड़ेगा।इस तरह के आयोजनों ने आपसी भाईचारा एवं लोगों के बीच सेवा की भावना बढ़ती है। भाजपा नेता दीपक शर्मा भी कथा श्रवण जी करने हेतु कुबरी ग्राम पहुंचे हुए थे।भक्तों को अपनी मुखारबिंद से श्रीकृष्ण के जीवनलीला पर प्रकाश डालते हुए संत शिरोमणि स्वामीजी ने कहा कि हमे वासुदेव की जीवनलीलाओं का एक प्रतिशत अंश भी अपने जीवन मे उतारकर उसके उत्तम फल की अनिभूति लेनी चाहिए।सभी प्राणी जीवों में मानव जीवन काफी पुण्यकर्म अर्जित करने के बाद प्राप्त होता है।

बच्चों को बड़े बड़े स्कूलों में पढायें या छोटे स्कूलों में लेकिन उत्तम संस्कार जरूर दे

हम सभी को अपने जीवन मे काम,क्रोध,मद,लोभ,तृष्णा जैसे चीजों को त्याग करना चाहिए।अपने प्रवचन के दौरान उपस्थित भक्तों को समाज मे बढ़ रही कुरीतियों के लिए भी जमकर लताड़ लगाई।दहेज प्रथा के बढ़ते दुष्प्रभाव पर लोगों को सचेत होने की भी नसीहत दी।व्यभिचार,मदिरापान जैसे गंभीर समस्या को समाज के लिए घातक बताया।उन्होंने उपस्थित श्रोता समूह को संबोधित करते हुए कहा कि बच्चों को बड़े बड़े स्कूलों में पढायें या छोटे स्कूलों में लेकिन उत्तम संस्कार जरूर दें।इस अवसर पर यज्ञ समिति के मणिभूषण शर्मा,चंद्र भूषण शर्मा,राम भूषण शर्मा,गांधी जी,नीरज शर्मा,नवनीत पाण्डेय,नीतीश पटेल,मुन्ना कुमार,कुंदन पटेल सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page