भांजी सोनाली कुमारी कि शादी अमित कुमार जो कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल में कार्यरत है दोनों की शादी कुछ अलग तरिके से करूंगा–सुधीर शर्मा

पटना

शादी का दिन हर परिवार के जीवन का खास दिन होता है।हर किसी की चाहत होती है कि उसकी घर के बच्चों की शादी कुछ हटकर हो,जो सभी को याद रहे।इस तमन्ना को पूरा करने के लिए डिफरेंट वेडिंग थीम्स का सहारा लिया जा रहा है।

चेचैल निवासी उपमुखिया अंजू देवी एवं समाजसेवी सुधीर शर्मा

पहले जब शादी के लिए मंडप और उसके आस-पास की सजावट की बात आती थी तो फूलों की लड़ियां,आम के पत्तों की बंदनवार और रंग-बिरंगे कागज की झंडियों का इस्तेमाल किया जाता था।अगर स्पेशल डेकोरेशन करने की ख्वाहिश परिवार वालों की होती थी तो रंग-बिरंगी लाइट्स लगाई जाती थीं।लेकिन अब लोग शादियों की डेकोरेशन को यूनीक बनाने की चाह रखते हैं।यही नहीं अब थीम वेडिंग का ट्रेंड दिया जाने लगा है।


अब ग्रामीण परिवेशों में भी थीम बेस्ड शादी का प्रचलन हो गया है।जो कि ग्रामीण परिवेशों में चर्चा का विषय बन जाता है।एक ऐसी ही शादी को इस सफ्ताह 26 मई को नौबतपुर के चेचैल निवासी उपमुखिया अंजू देवी एवं समाजसेवी सुधीर शर्मा ने अपने भांजी सोनाली कुमारी के विवाह को थीम बेस्ड शादी का प्लान किया जो ग्रामीण परिवेशों में होने वाली शादियों से भिन्न थी।यहाँ पर बारात आगमन से लेकर जयमाला तक तो पूरी आधुनिक परिवेश में व्यवस्था थी तो वही शादी पारंपरिक रीति रिवाजों के साथ संपन्न हुई।वही खाने एवं खिलाने की शैली को आधुनिक परिवेश के अनुरूप रखा गया। खाने एवं खिलाने के लिए हैंगिंग फ़ूड स्टेशन तो पंडाल को गोल्डन थीम बेस्ड बनाया गया था।

हैंगिंग फूड स्टेशन

आपने सलाद या भोजन परोसने के अलग-अलग स्टाइल देखे होंगे लेकिन हैंगिंग फूड स्टेशन का अपना मजा होता है।जरा कल्पना करके देखें कि सलाद,फल,स्टार्टर,तंदूरी रोटियां आपको खूबसूरत हैंगर्स में,बास्केट में लटकती नजर आएं तो उनमें से उठाकर इन्हें खाना कितना अच्छा लगेगा। 

केक,पेस्ट्री,मिठाइयां भी हैंग करके सर्व की जाएं तो भोजन परोसने की यह अदा मेहमानों को महीनों तक याद रहेगी। इसी तर्ज पर हैंगिंग मिरर,हैंगिंग फ्लावर,हैंगिंग गार्डेन कॉन्सेप्ट्स पर भी शादी की थीम प्लान किया गया था।

गोल्डन थीम

विवाह समारोह में प्रवेश करते ही आपको दूर-दूर तक,चारों तरफ हर चीज गोल्डन या सिल्वर कलर में नजर आए तो आपको कैसा लगेगा ? लगेगा किसी राजा की स्वर्ण नगरी में आ गए। दूल्हा-दुल्हन की पोशाक से लेकर सर्व करने वाले बैरे, कैटरिंग के बर्तन,मंडप का कपड़ा,खाने की मेज पर गोल्डन कपड़े की बिछावट या गोल्डन फ्रेम,स्टेज का बैकग्राउंड सब कुछ इसी रंग में रंगा नजर आएगा।तो ऐसी वेडिंग आपको ताउम्र याद रहेगी,इतना ही नहीं मिठाइयों पर गोल्डन वर्क हो, डिशेज पर भी गोल्डन आभा हो तो मजा दोगुना हो जाएगा।

जब इस शादी के प्लानिंग के विषय पर सुधीर शर्मा से बात किया गया तो उन्होंने बताया कि मेरी भांजी सोनाली कुमारी कि शादी अमित कुमार जो कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल में कार्यरत है का शादी कुछ अलग तरिके से करूँगा।उसी समय मेरे मन मे ख्याल आया था कि इन दोनों की शादी थीम बेस्ड शादी जैसा हो और आज देख कर अच्छा लग रहा है।


वैसे आमतौर पर गांव में अगर शादी हो तो सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन होता है और इस आधुनिक थीम बेस्ड शादी में गांव वाली खनक को सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन करके सुधीर शर्मा ने उसको भी बरकरार रखा।जब उनसे इस इस कार्यक्रम पर पूछा गया कि इस कोरोना जैसे समय मे आप सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन कर रहे है तो उन्होंने बताया कि यहाँ पर सरकार द्वारा जारी सभी नियमो का पालन किया गया है।उन्होंने यह भी कहा कि हमलोग कितने भी आधुनिक हो जाये पर अपनी परंपरा को नही भुलते है और ऐसे आयोजन हमारे यहाँ पुरखो से चली आ रही है।

RATNESH KUMAR

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page