बिहार में 6 जुलाई से खुलने लगेंगे शिक्षण संस्थान,पहले चरण में कॉलेज और दूसरे चरण में कोचिंग-स्कूल खुलेंगे

पटना

अनलॉक-3 पूरा हो रहा है 6 जुलाई को उसी दिन घोषणा संभव होगा।बिहार में शर्तों के साथ बाजार खुलने के बाद अब सरकार शिक्षण संस्थानों को खोलने की तैयारी शुरु कर दी है। रविवार को शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने इस संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि यदि स्थिति में सुधार होता रहा तो सरकार बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए शर्तों के साथ सरकारी एवं निजी स्कूल-कालेजों को खोलने का निर्देश देगी।शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षण संस्थानों को खोलने की तैयारी चल रही है।

78 दिन बाद खुलेंगे शिक्षण संस्थान 19 अप्रैल से है सभी बंद—विजय कुमार चौधरी

शिक्षा मंत्री ने कहा कि बच्चों की सुरक्षा सरकार की पहली प्राथमिकता है. बच्चों की जान जोखिम में डालकर हम स्कूल नहीं खोलेंगे.6 जुलाई के बाद सरकार विश्वविद्यालय और महाविद्यालय को सबसे पहले खोलेगी. दूसरे चरण में माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालय (कक्षा 9वीं से 12वीं तक) और तीसरे चरण में प्राथमिक एवं मध्य विद्यालयों (कक्षा एक से आठ तक) के बच्चों के लिए कक्षाएं शुरू की जाएंगी. स्कूल के लिए शिक्षण संस्थानों के विशेष गाइड लाइन जारी किए जायेंगे. एक दिन में केवल 50 फीसद विद्यार्थी ही कक्षा में उपस्थित होंगे।शेष 50 फीसद अगले दिन आएंगे. कोरोना प्रोटोकाल का हर जिलों में कड़ाई से पालन कराया जायेगा।

विशेष कर छोटे बच्चों की पढ़ाई का सिलसिला टूट गया है

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के संक्रमण के कारण काफी समय से लगातार स्कूल-कालेज समेत अन्य शिक्षण संस्थान बंद हैं।इस से बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही है।विशेष कर छोटे बच्चों की पढ़ाई का सिलसिला टूट गया है।उनकी पढ़ाई फिर से पटरी पर आए इसी कारण हम स्कूल कॉलेज खोल रहे हैं।

शिक्षा मंत्री बोले करो ना की स्थिति सुधरती रहे तो चरणबद्ध तरीके से स्कूल भी खुलेंगे।50% बच्चे पहले दिन बाकी दूसरे दिन आएंगे।

पहला चरण
विश्वविद्यालय और कॉलेज खुलेंगें

दूसरा चरण
कोचिंग संस्थान 9 से 12 तक के स्कूल फनी पोयम

तीसरा चरण
6 से 8 तक की कक्षाएं शुरू की जाएगी

चौथा चरण
सबसे अंत में 1 से 5 तक की कक्षाएं शुरू की जाएगी

1 दिन कैप कर आधे-आधे बच्चे आएंगे

स्कूल आने के लिए बच्चों के माता-पिता की सहमति जरूरी होगी

स्कूल और कोचिंग में एक साथ नहीं होगी छुट्टी

टीकाकरण केंद्र के रूप में काम करते रहेंगे स्कूल।

RATNESH KUMAR

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page