बिहार में बाघ एक्सप्रेस के इंजन पर चढ़ा एक विक्षिप्त,1 घंटे लेट हो गई ट्रेन राजेंद्र पुल स्टेशन पर हुई यह घटना,डेढ़ घंटे तक परिचालन हुआ बाधित

पटना (मोकामा)

हावड़ा से चल कर काठगोदाम को जाने वाली (03019 अप,बाघ एक्सप्रेस) हावड़ा से काठगोदाम जा रही इस एक्सप्रेस के इंजन पर शनिवार कि सुबह एक विक्षिप्त लड़का चढ़ गया।यह घटना राजेंद्र पुल स्टेशन पर हुई हालांकि चालक की सूझबूझ से विक्षिप्त की जान बच गई।लेकिन इस बीच तकरीबन डेढ़ घंटे इस ट्रेन को रोकनी पड़ी।

ट्रेन का ड्राइवर ने कंट्रोल रूम को सूचना दिया

वही हाथीदह-बरौनी रेल खंड पर रेल यातायात भी बाधित हो गया।दरअसल राजेंद्र पुलिस स्टेशन पर बाघ एक्सप्रेस का ठहराव नहीं है।लेकिन मालगाड़ी गुजरने को लेकर लाइन क्लियर नहीं था।जिसे लेकर ट्रेन थोड़ी देर के लिए रुक गई,इसी दौरान अचानक एक विक्षिप्त लड़का इंजन पर चढ़ गया। चालक की नजर पड़ने पर उसने विक्षिप्त को रोकने का प्रयास किया गया।इधर यात्रियों को विक्षिप्त को करंट की चपेट में आकर झुलसने का डर सता रहा था।तब चालक ने यात्रियों को हस्तक्षेप नहीं करने की सलाह दी।

मोकामा आरपीएफ इंस्पेक्टर अपने दल बल के साथ वहां पहुंचे

जानकारी के अनुसार शनिवार की सुबह करीब 6:05 बजे बाघ एक्सप्रेस स्टेशन पर आकर रुकी।इसी दौरान एक विचित्र विक्षिप्त युवक ट्रेन के इंजन पर चढ़ गया।पायलट के समझाने के बाद ही वह नीचे उतरने को तैयार नहीं था।चालक ने इस वारदात की सूचना दानापुर रेल मंडल कंट्रोल रूम को दे दी।वहां से दिशा निर्देश पर आरपीएफ इंस्पेक्टर अरविंद कुमार सिंह अपने दलबल के साथ राजेंद्र पुलिस स्टेशन पर पहुंचे।आरपीएफ के जवानों ने भी युवक को नीचे उतारने के लिए काफी समझाने का प्रयास किया।लेकिन वह किसी की बात सुनने को तैयार नहीं था।

रेलवे इंस्पेक्टर —अरविंद कुमार सिंह

आरपीएफ के 2 जवानों ने काफी मशक्कत के बाद उस विक्षित को ट्रेन से सही सलामत उतारा

आखिरकार आरपीएफ ने विद्युत अभियंत्रण विभाग को यह जानकारी दे दी।उसके बाद बिजली आपूर्ति को कुछ देर के लिए बाधित किया गया।जब बिजली काटे जाने के बाद आरपीएफ जवान जब ट्रेन पर चढ़ने लगे,तो वह विक्षिप्त युवक भागकर ट्रेन के गार्ड के बोगी पर दौड़ कर पहुंच गया।आरपीएफ के जवान रजनीश कुमार ग्राम- काब थाना-रानी तालाब जिला-पटना (बिहार) और इंद्रदेव यादव ग्राम-खड़हुई थाना-खैरा जिला-जमूई (बिहार) के दोनों जवानों ने ट्रेन के ऊपर छत पर चढ़ेंने के बाद काफी देर तक भाग-दौड़ उस युवक ने करवाया।कुछ देर बाद दोनों जवानों ने उस युवक को अपने कब्जे में ले लिया और उसे सही सलामत ट्रेन के छत से नीचे उतारा।इस पूरी घटना को देख यात्री दहशत में आ गए थे और बोगी के अंदर डर से सहमे हुए थे।

आरपीएफ जवान–रजनीश कुमार

आरपीएफ जवान–इंद्रदेव यादव

राजेंद्र पुर स्टेशन पर डेढ़ घंटे तक रूकी रही बाघ एक्सप्रेस

जब युवक के ट्रेन की छत से उतारा गया।तब जाकर पायलट व गार्ड ने राहत की सांस ली।कुछ देर के बाद बिजली बहाल की गई,यहां ट्रेन डेढ़ घंटे घंटे बाद 7:35 बजे गंतव्य के लिए रवाना हुई।मोकामा आरपीएफ इंस्पेक्टर ने बताया कि युवक ना तो कुछ बोलता था और ना ही किसी सवाल का जवाब ही दे पा रहा था।सकी इस हरकत से अंदाजा लगाया गया कि वह मानसिक रूप से विक्षिप्त है।


रेल कर्मियों का कहना था विक्षिप्त कई दिनों से राजेंद्र पुल स्टेशन के सटे सड़क पर घुमते देखा गया था।इस से पहले भी वह ऐसी हरकत कर चुका है।वह सेंटिंग लाइन में खड़ी एक मालगाड़ी पर चढने का प्रयास कर रहा था।तब भी किसी तरह उसे आरपीएफ के जवानों ने रोका और उसे स्टेशन परिसर से हटाया।जानकारी के अनुसार दानापुर रेल मंडल में किसी एक्सप्रेस ट्रेन पर चढ़कर विक्षिप्त का हंगामा करना और डेढ़ घंटे तक परिचालन को बाधित करना यह पहली बार का घटना है।दोनों आरपीएफ के जवानों ने हिम्मत और अपनी सुझबुझ के साथ उस विक्षिप्त को ट्रेन से नीचे उतारा।उन दोनों जवानों को रेलवे के तरफ से पुरस्कृत करना चाहिए ताकि उन आरपीएफ के जवानों का मनोबल बना रहे।ताकि आने वाले किसी भी प्रकार की घटना को रोकने के लिए तत्परता के साथ और भी रेल कर्मचारि काम करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page