न्यूमोनिया रोग का कैसे करें रोक थाम ?

स्वास्थ से संबंधित खबर …

पुदीना का ताजा शक्कर की चाशनी का (रस शहद) के साथ मिलाकर दो-तीन घंटे के अंतराल से देते रहने से न्यूमोनिया से होने वाले अनेक विकारों की रोकथाम होती है और ज्वर शीघ्रता से मिट जाता है।

सर्व प्रकार के बुखार की रामबाण दवा

पहला प्रयोग


निमोनिया हो जाने पर गूलर के फल को पानी में उबालकर काढ़ा बनाएं और निमोनिया वाले रोगी को पिलाएं उससे निमोनिया एक दम ठीक हो जाता है

दूसरा प्रयोग


दो तोला कुटी हुई गिलोय को रात्रि में थोड़े पानी में भिगोकर सुबह मसल-छानकर पीने से सब प्रकार के बुखार में लाभ होता है।

तीसरा प्रयोग


30 से 40 मुनक्कों को लगभग 250 ग्राम पानी में रात को भिगो दें। सुबह उसे खूब उबालकर उसके बीज निकालकर खा जायें और वही पानी पी जायें। इससे शरीर में बल और स्फूर्ति का संचार होगा। रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ेगी और ज्वर का उन्मूलन हो जायेगा।

चौथा प्रयोग


रात्रि में 25 ग्राम सोंफ पानी में भिगोकर रखें। सुबह उसी पानी में उबालें।उबल जाने पर सोंफ को खूब मसलकर उसका पानी छान लें।इस पानी में चने के दाने जितनी फुलायी हुई फिटकरी का चूर्ण डालकर सुबह खाली पेट 40 दिन तक पीने से पुराने से पुराना किसी भी प्रकार का बुखार मिटता है।इस प्रयोग से 20 वर्ष पुरानी कब्जियत भी दूर हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page