कोरोना से फेफड़ा को बचाने के लिए दिन में कितनी बार भाप लें,वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

स्वास्थ्य से संबंधित जानकारी

फेफड़ों के लिए सैनिटाइजर का काम करता है भाप,कोरोना से Lungs को बचाने के लिए दिन में कितनी बार लें,वैज्ञानिकों ने क्या किया खुलासा।


आमतौर पर इसे नार्मल पानी के साथ या विक्स,नारंगी और नींबू के छिलके,लहसुन,चाय के पौधे के तेल,अदरक,नीम के पत्तों आदि के साथ मिलाकर भी लेना काफी लाभकारी साबित हो सकता है।

कोरोना महामारी एक बार फिर देश में तबाही मचा रही है।इस बार यह काफी उग्र स्थिति में है।जिस ने सरकार के बचाव के सभी प्रयासों को विफल कर दिया है।सबसे खतरनाक स्थिति यह है कि इस बार RT-PCR जैसे टेस्ट भी इसका पता नहीं लगा पा रहे है।यह फेफड़ों तक पहुंच कर उसे खराब कर दे रहा व हृदय रोग का कारण भी बन जा रहा।हालांकि,विशेषज्ञों की मानें तो इसे स्टीम (भाप) के जरिये ठीक किया जा सकता है।

फेफड़ों के सैनिटाइजर है भाप लेना लाभदायक है


दरअसल,जर्नल ऑफ लाइफ सांइस में छपी एक शोध के मुताबिक भाप लेने से शरीर में कोरोना के संक्रमण को कंट्रोल किया जा सकता है।किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (KGMU) और संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (SGPGI) के विशेषज्ञों की मानें तो भाप फेफड़ों के सैनिटाइजर से कम नहीं है।निरंतर भाप लेने से इस खतरनाक वायरस से बचा जा सकता है।

दिन में कितना बार लेना चाहिए यह भाप


उन्होंने बताया कि दिन में करीब दो से तीन बार भाप लेना सही माना गया है।भाप लेने की अवधि कम से कम पांच मिनट होनी ही चाहिए।

क्या होते है इस भाप से फायदे


ACOPGI के माइक्रोबायोलॉजी विभाग की प्रमुख डॉ. उज्जवला घोषाल की मानें तो…

नियमित रूप से भाप लेने से खांसी और भरी नाक से राहत मिलता है।

जो आपको सांस लेने में हो रही दिक्कतें कम करती है और शरीर को आराम मिलता है।

ये कफ को ढीला करने का काम करती है

साथ ही साथ इससे हमारे इम्युन सिस्टम पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

शरीर में बल्ड फ्लो को बढ़ाकर यह रेस्पीरेट्री सिस्टम को सुधारती है।

जिससे शरीर में जरूरी मात्रा की ऑक्सीजन फेफड़ों तक पहुंच कर उसे स्वस्थ बनाती हैं।

इसके अलावा हमें नाक के स्प्रे का भी इस्तेमाल करना चाहिए

आमतौर पर इसे नार्मल पानी के साथ या विक्स,नारंगी और नींबू के छिलके,लहसुन,चाय के पौधे के तेल,अदरक,नीम के पत्तों आदि के साथ मिलाकर भी लेना काफी लाभकारी साबित हो सकता है।

इस उपाय से वायरस कमजोर पड़ते और शरीर को जल्द राहत मिलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page