कोरोना कि दूसरी लहर में बच्चों में दिख रहे हैं 6 लक्षण,समझें और जांच कराएं,बच्चों में कोरोना के इन लक्षणों पर रखें नजर

खबर स्वास्थय से….

कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। दूसरी लहर में संक्रमितों और मृतकों का आंकड़ा आसमान छू रहा है।रोजाना करीब चार लाख नए मामले और चार हजार लोगों की मौत हो रही है।इस कोरोना वायरस की दूसरी लहर छोटे बच्चों के लिए कम विनाशकारी नहीं है।डॉक्टरों का मानना है कि पिछले साल की तुलना में इस बार 4,महीने से कम उम्र तक के बच्चे कोरोना की चपेट में आ रहे हैं।बच्चों में कोरोना के इन लक्षणों पर रखें नजर।हालांकि विशेषज्ञ यह दावा करते हैं कि बच्चों में कोरोना के मामले अभी कम है और वयस्कों की तुलना में जल्दी ठीक भी हो जाते हैं।

बच्चों में कोरोना के इन लक्षणों पर रखना होगा आप को नजर

हालांकि विशेषज्ञ यह दावा करते हैं कि बच्चों में कोरोना के मामले अभी कम है और वयस्कों की तुलना में जल्दी ठीक भी हो जाते हैं।

दूसरी लहर में लक्षणों में कुछ बदलाव हुए हैं

पहले तक,केवल बुखार या थकावट को बच्चों में कोरोना का लक्षण माना जा रहा था।वायरस ने अब अधिक लक्षणों को फैलाया है और साथ ही अधिक लक्षण पैदा कर रहा है।

पेट में दर्द

कोरोना की दूसरी लहर में पेट की गड़बड़ी यानी गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल के लक्षण दिख रहे हैं।बच्चों पर भी अधिक प्रभाव पड़ रहा है।असामान्य पेट दर्द,सूजन,भारीपन,पेट में ऐंठन ये सभी संकेत हो सकते हैं कि आपका बच्चा कोरोना के गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल लक्षणों से पीड़ित है।कुछ बच्चे कम भूख की शिकायत भी कर सकते हैं या खाना खाने की इच्छा न होने का अनुभव कर सकते हैं।

दस्त

दस्त और उल्टी भी ऐसे संकेत हैं।जो आमतौर पर उन बच्चों को प्रभावित करते हैं। कोरोना वायरस पेट में सूजन और पाचन परेशानी का कारण बनता है।अगर आपके बच्चे को ऐसा लक्षण है तो जांच कराएं।

मध्यम या तेज बुखार

कोरोना होने पर बच्चे का बुखार का तापमान 102 डिग्री फ़ारेनहाइट जितना हो सकता है।कोरोना के बुखार में ठंड,दर्द,कमजोरी महसूस हो सकती है।ज्यादातर मामलों में बुखार 2-3 दिनों (बच्चों के लिए) के बाद टूट जाता है।हालांकि यदि लक्षण 5 दिनों तक रहता है,तो सतर्क हो जाएं।

लगातार सर्दी और खांसी होना

लगातार खांसी या एक गंभीर सर्दी बच्चों में ऊपरी श्वसन पथ के संक्रमण का संकेत हो सकती है।अगर खांसी या ठंड ठीक होने में अधिक समय ले रहे हैं और गले में खराश भी है तो यह कोरोना का संकेत हो सकता है।

थकान

थकान,सुस्ती और खराब नींद अक्सर ऐसे संकेत हैं।जिनसे पता चलता है कि शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली संक्रमण से लड़ने में व्यस्त है।थकान और सुस्ती छोटे बच्चों में संक्रमण के संकेत हो सकते हैं।

त्वचा पर चकत्ते

पैर की उंगलियों में दाने होना पिछले साल बच्चों में पहली बार देखा गया था।अभी भी कोरोना वाले बच्चों में संक्रमण के सबसे सामान्य लक्षणों में से एक हैं।इस मामले में धब्बेदार त्वचा,पित्ती,उंगलियों और पैर की उंगलियों के अचानक मलिनकिरण होना जैसे लक्षणों को संकेत माना जाना चाहिए।पैर की उंगलियों में दाने होना पिछले साल बच्चों में पहली बार देखा गया था।अभी भी कोरोना वाले बच्चों में संक्रमण के सबसे सामान्य लक्षणों में से एक हैं।इस मामले में धब्बेदार त्वचा, पित्ती,उंगलियों और पैर की उंगलियों के अचानक मलिनकिरण होना जैसे लक्षणों को संकेत माना जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page