अब ब्रिटेन,अमेरिका और फ्रांस को निर्यात किया जाएगा बिहार का मगही पान

बिहार (नवादा)

अब विदेशी गोरो को मुंह लाल करेगा बिहार का मगही पान।मगही पान की पहुंच उन विदेशी नागरिकों तक होगी जो पान का शौक पहले से रखते हैं।मगही पान के निर्यात की प्रक्रिया शुरू हो गई है।कोलकाता की निर्यातक कंपनी ने बिहार के मगही मान के निर्यात में रुचि दिखाई है।बिहार कृषि विश्वविद्यालय की पहल पर केंद्रीय वाणिज्य मंत्री ने इसे ए की सूची में भी डाल लिया है।निर्यात के लिए करानी होगी जांच बिहार के मंत्री पान को जीआई टैग मिला तो देश के साथ विदेशों में भी इसकी मांग बढ़ जाएगी।

सबसे अधिक मांग वाले अरब के देशों में भी निर्यात किया जाएगा

ब्रिटेन,अमेरिका और फ्रांस तक अभी निर्यात करने की योजना है।आगे उत्पादन बढ़ा तो सबसे अधिक मांग वाले अरब के देशों में भी निर्यात किया जाएगा।शर्त यही है कि राज्य सरकार को पान की जांच कराकर सालमोनेला फ्री होने का प्रमाण पत्र लेना होगा।आंटी कानून के अनुसार पान के निर्यात के लिए यह जरूरी है।इस जांच की व्यवस्था फ़िलहाल गुड़गांव में है।बंगाल से पान का निर्यात पहले भी होता है।लेकिन अब वहां के पान में सालमोनेला अधिक होने लगा है।लिहाजा निर्यातकों की नजर बिहार के मगही पान पर गई है।बिहार विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ आर के चौहान ने इसको लेकर मरग न्याय मंत्रालय के अधीन काम करने वाली संस्थाएं पीड़ा से बात कि वहां के उप महाप्रबंधक संविदा गुप्ता ने इसे सूचीबद्ध कर इसकी सूचना बीएयू को दे दी है।

मगही पान अभी बनारस तक जाता है

पान की उत्पादक जिले में नवादा,नालंदा,गया व मधुबनी के अलावा वैशाली,खगड़िया,दरभंगा,भागलपुर,समस्तीपुर मुजफ्फरपुर,पूर्वी चंपारण,औरंगाबाद,शेखपुरा,बेगूसराय,सारण, सिवान और मुंगेर है।आप को बता दें कि मगही पान से ही बनता है,बनारसी पान राज्य से मगही पान अभी बनारस तक जाता है।बनारसी पान भी मगही पान को ही प्रोसेस कर बनता है।बीएयू के पांच वैज्ञानिक शिवनाथ दास बताते हैं कि मगही पान को प्रोसेस कर इसका क्लोरोफिल हटा दिया जाता है।उसके बाद इसका रंग भी सफेद हो जाता है।साथ ही इसका लाइट भी सफेद हो जाता है।साथ ही इसका लाइट भी 20 दिनों तक बढ़ जाता है।उसे ही व्यापारी बनारसी पान के नाम पर बेचते हैं।नवादा के व्यापारियों और किसानों में इसकी खुशी देखी जा रही है।नवादा जिले में पान की खेती डोला,छतरवार,मंझवे,तुंगी,हड़िया गांव में बड़े पैमाने पर होती है।

कुमार विश्वास के साथ रामजी प्रसाद की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page